Thursday, 16 October 2014

मानवीय संवेदनाओं पर सवाल उठाती मौतें


[ एल.एस. बिष्ट ] - आज अगर हम अपने आसपास हो रही घटनाओं से मुंह न मोडें तो यह बात पूरी तरह से साफ हो जाती है कि विकास व उन्नति की तेज धारा के साथ बहते हुए हम कहीं न कहीं मानवीय संवेदनाओं से कटते जा रहे हैं । यही नही, विकास की सीढियां चढते समाज का ताना-बाना भी कुछ इस तरह से उलझने लगा है जिसमें जिंदगी ही बोझ लगने लगती है ।यही कारण है कि रोज सुबह आंगन में गिरने वाले अखबार भी चीख चीख कर हमें यह बताने की कोशिश करता है लेकिन हम हैं कि राजनीति और अर्थशास्त्र की खबरों से नजर उठा ही नहीं पाते ।
आज किसी भी अखबार मे राजनीति व चुनावी खबरों के बीच ऐसा बहुत कुछ भी है जिस पर सोचा जाना चाहिए लेकिन यह खबरें बिना किसी का ध्यान अपनी ओर खींचे चुपचाप बासी हो जाती हैं और हम आसानी से भूल जाते हैं कि ऐसा कुछ भी हमारे आस-पास घटित हुआ था ।
आज के समाचार पत्र में छ्पी कुछ ऐसी ही खबरें इस तरह से हैं । एक खबर के अनुसार गीतकार संतोष आनंद के बहू-बेटे ने कोसी कलां में इंटरसिटी के आगे कूद कर अपनी जान दे दी । सुसाइड नोट के अनुसार उन्हें करोडों रूपये के हेरा फेरी मामले में फंसाया गया था । एक दूसरी खबर के अनुसार आगरा के एक डाक्टर की प्रेम कहानी का दुखद अंत हुआ । ढाई साल पहले प्रेम विवाह हुआ और फिर शादी । लेकिन मनमुटाव के चलते डा. दिशा मायके मे रहने को मजबूर हो गईं और फिर वहीं फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली ।
ऐसी ही एक और खबर के अनुसार ट्रेन से कट कर तीन दोस्तों ने जान दे दी । बांदा के इन तीन युवकों ने संपर्क क्रांति एक्सप्रेस के सामने लेट् कर सामूहिक रूप से  आत्महत्या की । यही नहीं, शाहजहांपुर में प्रेमी युगल ने भी खुदकुशी कर अपनी जीवन लीला समाप्त कर दी । पहले किशोरी ने आत्महत्या की फिर गम में प्रेमी ने भी मौत का रास्ता चुनना बेहतर समझा । माता-पिता उनके आपसी रिश्तों के विरोधी थे ।
यह खबरें तो बानगी भर हैं । दुर्भाग्यपूर्ण तो यह है कि देश में खुशहाल होते परिवेश के बीच इन खबरों की संख्या में निरंतर वृध्दि हो रही है । एक ही शहर में एक ही दिन में कई लोग जिंदगी से ऊब जिंदगी को अलविदा कहने को मजबूर हो जाते हैं । लेकिन न तो किसी अखबार में इन मानवीय घटनाओं पर संपादकीय लिखा  जाता है और न ही उन्हें प्रमुखता दी जाती है । बस किसी कोने मे एक छोटी सी खबर बन कर रह जाती है इंसानी  जिंदगी ।
दर-असल आज की उपभोक्ता संस्कृति व हमारी आत्मकेन्द्रित जीवन शैली  हमें मानवीय संवेदनाओं से कहीं दूर ले गई है । हमें  या तो सरकार, शासन व चुनाव की खबरें रास आती हैं या फिर बाजार मे आने वाले नित नये उपभोक्ता उत्पादों की । कहां क्या सस्ता बिक रहा है, यह हमारी सोच की प्राथमिकताओं मे है । सच तो यह है कि हमारी चिंताओं , सरोकारों और सोच का दायरा सिमट कर रह गया है ।
इस नजरिये से देखें तो मीडिया कहे जाने वाला भोंपू भी राजनीतिक खबरों, सेक्स स्केंडलों और विज्ञापनों की तिलस्मी दुनिया तक सीमित होकर रह गया है । राजनीतिक उठा-पटक व बलात्कार जैसे विषयों पर दिन-दिन भर चौपाल लगाने वाला मीडिया कभी भी मानवीय जीवन की त्रासदायक घटनाओं पर बहस करवाता नहीं दिखता । शायद फांसी पर लटकते लोग, पटरियों पर कटते इंसान कोई सवाल नहीं उठाते या फिर मानवीय जीवन के यह अंधेरे टी.आर.पी नही बढाते । बात कुछ भी हो लेकिन सामाजिक -पारिवारिक दवाबों को न झेल पाने की यह नियति और हमारी खामोशी या बेखबरी आज के समाज के चरित्र पर सवाल तो उठाती ही हैं ।
दर-असल गौर से देखें तो बीते दौर की तुलना मे हमने विकास और समृध्दि की लंबी छ्लांग लगाई है । हमारी जिंदगी अभावों के अंधेरे से निकल सुविधाओं की रोशनी से सराबोर हुई है । लेकिन इस समृध्दि के गर्भ मे ही हमारी परेशानियों, उदासियों और अवसाद के बीज निहित हैं । वस्तुत: बीते सालों मे हमने विकास का जो ढांचा स्वीकार किया उसने सपनों, आकांक्षाओं और भौतिक सुविधाओं की ललक तो जगाई लेकिन समय के थपेडों को सहने व झेलने के मूल्य विकसित नहीं  किए । यही कारण है कि चाहे मामला प्यार की कोमल भावनाओं का हो या फिर वैवाहिक जीवन की उलझनों का या फिर आर्थिक उतार-चढाव का, एक छोटा सा अंधड हमारी जडों को हिला पाने मे सफल हो जाता है । किन्हीं कमजोर क्ष्णों मे हम जिंदगी को अलविदा कहने को ही बेहतर विकल्प मान बैठते हैं । नित बढती यह घटनाएं विकास और समृध्दि के स्वरूप पर कुछ बुनियादी सवाल उठा रही हैं लेकिन हम हैं कि राजनीति व बाजार संस्कृर्‍ति से इतर कुछ देख पाने मे असमर्थ से होते जा रहे हैं ।
सवाल यही है कि आखिर हम इन घटनाओं मे निहित बेबसी, लाचारगी व उलझनों पर कब सोचना शुरू करेंगे । कब हम उन बातों पर चर्चा करने की जहमत उठायेंगे जो जिंदगी की बुनियाद को ही खत्म करने पर आमादा हैं । क्यों एक हंसती-खेलती जिंदगी पल तो पल में मौत के आगोश मे चली जाती है । कहीं न कहीं कुछ तो ऐसा है जिससे जिंदगी हार मान  बैठती है । आज इन सवालों पर न सोचा गया और मीडियाई भाषा में कहें तो  इन्हें महज एक हादसा मान बैठे तो कोई संदेह नही कि कल का अंधेरा कुछ ज्यादा स्याह होगा ।