Tuesday, 20 February 2018

लड़की की आंखों मे लट्टू होता मीडिया


एक लड़की ने आंख क्या मारी पूरा देश मानो उसका दीवाना हो गया | अपने को जिम्मेदार चौथा खंभा कहने वाले भारतीय मीडिया को तो मानो मन मांगी मुराद मिल गई हो | वह आंख मारने के तौर तरीकों, किस्मों और उसके विशेष प्रभावों पर चौपाल लगाने लगा | बड़े बड़े मुद्दे पीछे छूट गए | यहां तक की सीमा पर रोज-ब-रोज शहीद होते जवानों और उसके बीच पाकिस्तान की गीदड़ भभकी , यह सब कहीं भुला दिये गए | सबसे महत्वपूर्ण खबर बन गई प्रिया प्रकाश नाम की लड़की का आंख मारना |
       प्रिंट मीडिया भी कहीं पीछे नही दिखा | शायद ही कोई अखबार रहा हो जिसमे उसकी फोटो न छपी हो | यही नही, सोशल मीडिया ने तो वह धूम मचा दी की पूरा फेसबुक, टिवटर और वाटसएप प्रिया प्रकाश के ही रंग मे सराबोर हो गया |परिणामस्वरूप एक लड़की जिसे कोई ठीक से जानता तक नही था , कुछ ही घंटों मे सेलीब्रेटी बन गई | उसकी थर्ड ग्रेड दक्षिण भारतीय फिल्मों  के वितरण के लिए होड सी मचने लगी  | निर्माता उसके घर के चक्कर लगाने लगे | उसे स्कूल  मे पढ़ाने वाले टीचर तक उसके गुरू होने पर गर्व करते हुए इंटरव्यू देने लगे | देश भर मे उसकी हम  उम्र की लड़कियां उसके भाग्य से ईषर्या करने लगीं  |
       ऐसा पहली बार नही हुआ | कोलावरी डी गाने से लेकर बेवफा सोनम गुप्ता तक की यही कहानी है | लेकिन जब ऐसी बातों से रातों रात स्टार बनने के लिए देश भर मे लड़कियां ऊंटपटांग हरकते करने लगेंगी , तब यही प्रिंट , इलेक्ट्रानिक और सोशल मीडिया गहरी चिता जताने लगेगा और उसे सांस्क्र्र्तिक प्रदूषण का नाम भी देगा | सारा दोष लड़कियों पर मढ़ते हुए यह  भूल जाएगा की आखिर ऐसे मामलों मे उसने किस ज़िम्मेदारी का परिचय दिया है  और कैसी भूमिका निभाई | सच कहा जाये तो सोशल मीडिया सहित प्रिंट व इलेक्ट्रानिक मीडिया का यह चरित्र जाने- अनजाने बेहूदेपन को ही बढ़ावा दे रहा है | इसे महसूस किया जाना चाहिए |