सोमवार, 7 सितंबर 2020

उजाले और उम्मीद की राह दिखाती पुस्तक

 

पुस्तकों का इंसानी जिंदगी से गहरा रिश्ता रहा है | प्राचीन इतिहास पर नजर डालें तो इंसान का अक्षरों से किसी न किसी रूप मे सबंध हमेशा रहा है और यही कारण है प्राचीन सभ्भयताओं की खोज मे हमें शब्दों का अस्तित्व हमेशा मिलता है |आज भी हम पुस्तकों को इंसान का पथ प्रदर्शक मानते हैं |

     राजस्थान के अजमेर मे जन्मे व मनीला-फ़िलिपींस को अपने कर्म भूमि बनाने वाले श्री हीरो वाधवानी जी की नवीनतम पुस्तक “ मनोहर सूक्तियां “ एक ऐसी ही बहुमूल्य पुस्तक है जो हमें जीवन की सही राह दिखाती है | सूक्तियों के रूप मे इस पुस्तक मे वह अमृत है जिसका स्वाद इसे पढने के बाद ही समझा जा सकता है | यह पुस्तक सही अर्थों मे अनमोल मोतियों की एक खूबसूरत माला है जिसमे हर मोती की अपनी चमक है | एक ऐसी चमक जिसकी रोशनी मे आप जीवन की सही राह देख सकते हैं |

     वाधवानी जी ने संभवत: अपने रचना कर्म के लिये साहित्य की इस विधा का चयन बहुत सोच समझ कर किया होगा | कहानी, कविता जैसी विधाओं से हट कर सूक्तियों व विचारों का लेखन एक अलग किस्म का रचनाकर्म है | लेकिन कोई सदेह नही कि जनकल्याण की द्र्ष्टि से यह सबसे अधिक उपयोगी विधा है | जीवन के कठिन दिनों व मानसिक अवसाद के क्षणों मे यह पुस्तक आपको उजाले और उम्मीद की राह दिखाती है क्योंकि इसमे जीवन का सार है, क्पोल कल्पित कथा नही |  इसमे लेखक वाधवानी जी के जीवन का गहन अनुभव व मौलिक प्रतिभा का बेहतरीन निष्कर्ष है |

    इस पुस्तक के प्रथम पृष्ठ मे छपी सूक्तियों से ही पुस्तक की उपयोगिता का आभास हो जाता है | प्रत्येक सुक्ति लाखों रूपयों से भी ज्यादा मूल्यवान है | कुछ सुक्तियां इस प्रकार हैं –

·        असंयमी इंसान को शैतान शीघ्र वश मे कर लेता है |

·        ईश्वर ने योग्य समझ कर बुजुर्गों और बरगद के पेडों को अधिक समय दिया है, इनका सम्मान करो |

·        रेलगाडी पटरी पर होगी तो हजारों मील चलेगी, पटरी से उतर ग-ई तो एक इंच भी नही चलेगी |

·        मां के गर्भ मे रहने का किराया जीवन भर कमाए गए धन का दोगुना है |

·        गरीबी केवल त्योहार पर नही, रोजाना तंग करती है |

·        मोतियों से मिल कर धागा भी मूल्यवान हो जाता है |

ऐसी ही तमाम सूक्तियां जो जीवन के विभिन्न पहलुओं से जुडी हैं और अधंकार मे सही दिशा का भान कराती हैं | जीवन का ऐसा कोई क्षेत्र नही जिसके बारे मे पुस्तक मे उल्लेख न हो |

     पुस्तक की सुंदर कंपोजिंग, मजबूत बाइडिंग, आकर्षक कवर तथा त्रुटिहीन छपाई इस पर चार चांद लगाती हैं |

     यह पुस्तक हर उम्र के लोगों के पाठकों के लिये उपयोगी है और इस दौर के हमारे बच्चों के लिये तो प्रकाशपुंज के समान है | उनके पास रामायण, गीता व वेदों के अध्धयन का न तो समय है और न ही सामाजिक परिवेश लेकिन एक या दो पंक्ति के यह अमृत विचार उन्हें जीवन मे अच्छे बुरे व नैतिक-अनैतिक का विवेक देने मे समर्थ हैं |

    कारोबार के संबध मे  अपनी भूमि से दूर रहने के बाबजूद मनीला फ़िलिपींस मे रहते हुए   हिंदी की इस विधा मे , अपनी जमीन की सुगंध व मूल्यों को लिए ऐसी उपयोगी पुस्तक लिखने के लिये श्री वाधवानी जी निसंदेह साधुवाद  व शुभकामनाओं के पात्र हैं |

पुस्तक – मनोहर सूक्तियां

लेखक – हीरो वाधवानी

के बी एस प्रकाशन, ई मेल  - kbsprakashan.@gmail.com

1 टिप्पणी: